Bhutiya Kahani – भूखी चुड़ैल – The Hungry Witch

Bhutiya Kahani – भूखी चुड़ैल – The Hungry Witch

भागलपुर नामक एक गांव में हीरा अपनी बीबी चमेली व बेटे कालू के साथ रहता था । हीरा ही किसान था । वह अपने खेत में तरह तरह की सब्जियां उगाते था और उन सब्जियों को गांव व शहर के लोगों को ताजी सब्जियां बेचता था । सबको हीरा का ताजी सब्जियां बहुत पसंद आती । हीरा अपने काम को पूरी लगन व मेहनत से करता ।हीरा की खेती बाड़ी में उसका बेटा कालू भी उसकी मदद करवाता था । हीरा जब भी शहर में सब्जी बेचने जाता तो बीच रास्ते में बेहद घना जंगल पड़ता । जंगल के बीचो बीच एक बहुत बड़ा पीपल का पेड़ था । उस पेड़ पर चुड़ैल रहती थी । चुड़ैल दिखने में बहुत मोटी होती है । चुड़ैल को हर समय भूखी लगी रहती । एक दिन जब हीरा जंगल के रास्ते से जा रहा था तो उसे चुड़ैल देख लेती है । चुड़ैल हीरा के पास सब्जियों का ठेला देख बहुत खुश होती है ।(Bhutiya Kahani – भूखी चुड़ैल – The Hungry Witch)

bhutiya kahani, bhutiya kahani cartoon, bhutiya kahani in hindi, bhutiya kahani real images

चुड़ैल-औरे बाह क्या बात हैं में इतना सारा खाना शैडो कुछ जाके ठेले से खाया जाए चुड़ैल ठेले से चुपचाप पांच ताजी ताजी सब्जियां उठा लेती हैं । और पेड़ पर बैठ कर खाने लगती हैं । और कहने लगा अरे वाह क्या बात है  आज  तो मजा आ गया । मैंने आज पेट भर कर खाना खाया । अब मैं अच्छे से आराम की नींद सो पाऊंगी । कुछ देर बाद जब हीरा अपने गांव पहुंच जाता है तभी एक आदमी हीरा से सब्जी लेने के लिए रुकता है ।

आदमी-अरे भैया बैंगन कैसे किलो ।

हीरा– भैया 40 रुपए की किलो लेलो भैया  ताजे बैंगन है । और उस ने देखा और कहा अरी ये क्या हुआ जब मैं शहर से निकला तो तब मेरे पास बहुत सारी सब्जियां थी ये कम कैसे हो गई गांव तक आते आते ।

So you read (Bhutiya Kahani – भूखी चुड़ैल – The Hungry Witch)

Also Read: Moral Stories For Kids – माँ के जादुई बादाम – Hindi Kahaniya

हीरा अपनी सब्जियां गांव में बेचते हैं और अपने घर की तरफ निकल जाते हैं । ऐसे ही हर रोज हीरा उसी रास्ते से जाता था जिस रास्ते में पीपल का पेड़ था । और उस पेड़ से चुड़ैल उसकी सब्जियां चुरा लेती । एक दिन हीरा अपना ठेला लेकर गांव की तरफ लौटी रहा होता है कि तभी चुड़ैल उसे देख लेती है ।

चुड़ैल-आरी ही आदमी रोज जंगल से गुजरता है । आकार में इसकी साथ इसके घर चली जाऊंगी तो मेरी लॉटरी लग जाएगी । मुझे दिन रात खाना मिलेगा मैं बिल्कुल भूखी नही रहूंगी ।

ये सोच चुड़ैल हीरा की रखे ठेले में एक टमाटर में तब्दील हो जाती है । हीरा अपना ठेला लेकर अपने घर पहुँचता है । हीरा इस बात से बिल्कुल अंजान होता है कि उसके ठेले में रखी हुई सब्जियों में चुड़ैल एक टमाटर का भेस बदलकर आ गई है । चुड़ैल हीरा का घर देख बहुत खुश होती है । हीरा के घर के बिल्कुल सामने उसका खेत होता है जिसमें हीरा ने तरह तरह की सब्जियां उगाई होती हैं ।

चुड़ैल-और क्या बात है  मेरी तो चांदी ही चांदी हो गई । यह तो सब्जियों के खेत है । मैं तो अब जो चाहा वह पेट भर कर खाऊँगी । चुड़ैल हीरा की घर जाकर टमाटर का भेष बदल कर चुड़ैल का ही रूप ले लेती है ।

चुड़ैल– औरे आब मुझे कहीं छुप जाना चाहिए अगर मुझे किसी ने देखा तो दिक्कत हो जाएगी ।

चुड़ैल हीरा की घर में छिपने की जगह ढूंढती रही होती है कि इतनी में हीरा का बेटा कालू चुड़ैल को नजर आ जाता है ।

चुड़ैल– औरे आ एक अच्छी तरकीबें मैं हीरा के बेटे के अंदर ही घुस जाती हूं और पेड मजे से सब्जियां खाऊंगी ।

चुड़ैल कालू के शरीर के अंदर घुस जाती है । सुबह उठते ही हीरा हमेशा की तरह सब्जी बेचने शहर की तरफ निकल पड़ता है । इतने में ही कालू नींद से जाग जाता है ।

So you read (Bhutiya Kahani – भूखी चुड़ैल – The Hungry Witch)

Also Read: Raksha Bandhan Horror Story | रक्षाबन्धन की सच्ची कहानी

कालू के मा– औरे कालू बेटे तुम उठ गये तुम जल्दी से नाहलो में तुम्हारे लिए नास्ता लगा देती हूं ।

चुड़ैल– हा हा हा , आज तो बहुत मजा आएगा खूब खाने को मिलेगा ।

कालू नहाकर बाहर आता है । कालू की मां चमेली उसके लिए नाश्ता लगा देती है । देखते ही देखते कालू घर में बना सारा खाना खत्म कर देता है ।

कालू के मा– अरी आज इस कालू को क्या हुआ, ये तो बहुत कम खाने का था । बल्कि उसको  डॉट  के खाने खिलाने पड़ता था । इसे आज एकदम से क्या हुआ ।

चुड़ैल– क्या मजा आ रहा है । जंगल में तो खाने को कुछ मिलता ही नहीं था । यहा तो खूब जमकर सेवा हो रही है ।  कालू खूब पेट भरकर नाश्ता कर लेता हैं ।

कालू के मा– कालू चलो अब नाश्ता पानी हो गया है । एक बार खेत में जाकर फसलों में पानी दे आना ।

कालू– ठीक हैं  मां । कालू उसके मां की बात सुनता है और खेत में फसलों को पानी देने चला जाता है । खेत में कालू बहुत सारी सब्जियों को देख वह तुरंत चुड़ैल में तब्दील हो जाता है ।

चुड़ैल-अब वे जितनी चाहे उतनी सब्जीया खा सकती हूं । यहा मुझे कोई रोकने टोकने वाला नहीं हैं ।

चुडैल खुशी खुशी सब्जियों को खाने लगती है ।

चुड़ैल– आब बहुत सारी सब्जियां खा लि मैंने। साथी बहुत देर हो गई है । अगर चमेली खेत में आ गई और मुझे देख लिया तो बड़ी दिक्कत हो जाएगी मेरा पर्दाफाश हो जाएगा । मुझे अब जोल्दी फसल में पानी दे देना चाहिए ।

चुड़ैल तुरंत कालू के रूप में बदल कर फसलों में पानी देने लगती है । कालू फसलों में पानी देकर अपने घर की तरफ चला जाता है ।

So you read (Bhutiya Kahani – भूखी चुड़ैल – The Hungry Witch)

Also Read: Bhutiya Kahani Hindi | Valentines एक सच्ची कहानी

कालू– मां मैं फसलों में पानी दे आया ।

कालू के मा-थिक हैं बेटा ।

चुड़ैल– मुझे बहत ध्यान से रहना होगा इधर तभी मुझे मेरी मनचाही सब्जियां मिल पाएंगी ।

ऐसी ही चुड़ैल रोज कालू के भेस में खेत में जाती और अपनी मनचाही सब्जियां खाती । एक दिन हीरा चमेली और कालू खेत में जाते हैं । वहां कालू बेकाबू हो जाता है और खेत में लगी सब्जियां खाने लगता है । कालू को देख चमेली और हीरा बहुत हैरान होते हैं ।

हीरा-कुछ दिनों से देख रहा हूं । खेत में सब्जियां दिन पर दिन कम होती जा रही है ।

कालू के मा-सही कह रही हो जी ये कालू अब खाना भी बहुत ज्यादा खाने लगा है । कहीं यही तो नहीं खेत में आकर रोज हमारी फसले खाता है ।

हीरा-अरे पर इतनी सब्जियां उसके पेट में चली कैसे जाती है ।

कालू के मा-हम सही कह रहे ही जी कुछ तो गड़बड़ हैं ।

तभी कालू के अंदर की चुड़ैल देख लेती है कि उसे हीरा और चमेली देख रहे हैं । चुड़ैल सब्जियां खानी बंद कर वापस हीरा और चमेली के पास चला जाता है । फिर हीरा चमेली और कालू अपने घर की तरफ लौट जाते हैं ।

कालू के मा-अब मुझे इस कालू पर ध्यान रखना होगा कि सब्जियों का क्या कर रहे । इस पर कड़ी नजर रखनी पड़ेगी ।

अगले दिन सुबह उठकर कालू नहा धोकर तैयार होता है । कालू के अंदर की चुड़ैल चमेली को रसोई में देखकर अपने भेस में आ जाती है ।

चुड़ैल-मुझे बहुत जोर से भूख लगी है । मैं फ्रिज में जाकर देखती हूं खाने में क्या है । चुड़ैल फ्रिज में खाना ढूंढती रही होती है इतने में चमेली चुड़ैल को चुपके से देख लेती है । चुड़ैल तभी कालू के अंदर घुस जाती है । चमेली चुड़ैल को देख बहुत हैरान हो जाती है । शाम को हीरा शहर से सब्जी बेचकर घर आता है । तभी चमेली उसे सारी बात बता देती है ।

हीरा – अच्छा अगर ऐसा है तो मुझे अपने बेटे का इलाज करवाना पड़ेगा जल्दी से जल्दी ।

So you read (Bhutiya Kahani – भूखी चुड़ैल – The Hungry Witch)

Also Read: Fairy Tales Story In Hindi | गुलाबी | Princess Story In Hindi

कालू का मा-हा जी हां जी अब बिलकुल सही कह रहे जी ।

अगले दिन हीरा और चमेली अपनी बेटा कालू को लेकर गांव के पंडित जी के पास जाते हैं । पंडित जी मंदिर में बैठे हुए अपनी मंत्र जाप कर रहे होते हैं । मंत्र जाप करने के बाद हीरा अपने बेटे कालू को पंडित जी को दिखाता है ।

हीरा– देखिये गुरूजी हमारे बेटे को कुछ हो गया है । इस पर एक भयानक चुड़ैल का साया है । ये सब मेरी बीवी बीवी चमेली ने खुद अपनी आंखों से देखा हैं।

पंडित-ओम नमः शिवाय बेटा मेरे पास आकर बैठो ।

कालू पंडित जी के पास जाकर बैठ जाता है पंडित जी कालू पर गंगाजल छिड़कते हैं और एक ताबीज कालू को पहनाने लगते हैं । जैसे ही पंडित कालू को ताबीज पहनाने लगते हैं तभी कालू के अंदर से वो मोटी चुड़ैल बाहर निकल जाती है । और बहुत जोर जोर से रोने लगती है ।

चुड़ैल– मुझे मत मारो में बहुत भूखी हूँ ।

पंडित– तू इस बच्चे में क्या करने आई है इसको जीने क्यों नहीं दे रही ।

चुड़ैल-एक दिन के पीता हीरा जंगल के रास्ते अपनी रेहड़ी लेकर के जा रहे थे । में बहुत भूखी थी मैंने हीरा की जोड़ी से सब्जियों खाई । और एकदिन उसके ड्योढ़ी में टमाटर का रूप लेकर आ गई । हीरा के घर में घुसकर मैं उसके बेटे कालू के अंदर घुस गयी और तभी से मैं इसके अंदर रहती हूं ।

पंडित-अब तुम्हें मैं मुक्ति दे रहा हूं । तुम्हारी कोई आखिरी इच्छा है ?

चुड़ैल– हां मुझे भूख लगी हैं ।

पंडित चुड़ैल को भरपूर खाना खिलता है और कालू को ताबीज पहनता हैं, और चुड़ैल को मुक्ति दिलाता है ।

So you read (Bhutiya Kahani – भूखी चुड़ैल – The Hungry Witch)

Also Read: Love Story In Hindi Heart Touching | एक बेवफा लड़की

Default image
Dhruba Mandal
नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम हैं ध्रुब मंडल में ओड़िसा के एक छोटे से गाँव में से हूँ और इस ब्लॉग संस्थापक हूँ. में एक ग्रेजुएट स्टूडेंट हूँ. और मुझे टेक्नोलॉजी, एजुकेशन, लाइफ स्टाइल के बारे में लिखना ज्यादा पसन्द आता हैं.
Articles: 37

3 Comments

Leave a Reply